अपनी लड़कियों को हमेशा हिफ़ाज़त मुहैय्या कराएं

Posted on
  • Wednesday, July 4, 2012
  • by
  • DR. ANWER JAMAL
  • in
  • Labels: ,
  • पहले लड़कियों को उनकी हिफाज़त की गर्ज़ से घर में रखा जाता था और जब वे घर से बाहर जाती थीं तो उनकी हिफाज़त के लिए घर का कोई न कोई सदस्य भी उनके साथ जाता था . आज लड़कियों और औरतों के लिए खतरे पहले से ज़्यादा बढ़ गए हैं और उनकी हिफ़ाज़त  का परम्परागत कवच भी आज उन्हें मयस्सर  नहीं है. अपनी लड़कियों को हमेशा हिफ़ाज़त मुहैय्या कराएं. दरिन्दे जान पहचान के दायरे में भी होते हैं।. देखिये एक ताज़ा घटना और सबक़  हासिल कीजिये-

    ब्लू फिल्म देखते हुए दो नाबालिगों के साथ 5 लोग सारी रात करते रहे रेप

    नागपुर. हुडकेश्वर क्षेत्र में पांच लोगों पर दो नाबालिग लड़कियों के साथ पूरी रात गैंगरेप करने का आरोप लगा है। ये पांचों रात भर ब्लू फिल्म देखते रहे और बारी-बारी से लड़कियों को हवस का शिकार बनाते रहे। एक लड़की की उम्र 12 और दूसरी की 14 वर्ष बताई गई है। पांचों आरोपियों को गिरफ्तार कर लिया गया है।
    आरोपियों ने रविवार की रात 9 बजे से सोमवार की सुबह 5 बजे तक स्वागत नगर में एक आरोपी के घर में वारदात को अंजाम दिया। उस घर में कोई नहीं था। पांच आरोपियों में से एक के कहने पर दोनों लड़कियां उसके साथ स्वागत नगर गई थीं। उस आरोपी की पीडि़त लड़कियों में से एक के साथ अच्‍छी पहचान थी। 
    जुल्म की रात
    पुलिस के अनुसार स्वागत नगर इलाके में रहने वाले प्रशांत जोगदंड (24), छगन श्रीवास (30), पंकज दूधकावडे (22), भूषण जावडे (21) और संजय सोनटक्के (23) ने बस्ती की ही दो लड़कियों के साथ गैंगरेप किया। गैंगरेप की शिकार 14 वर्षीय लड़की पंकज दूधकावडे की दोस्त थी। रविवार की रात पंकज उसे बस्ती में मिला। उसने उसकी सहेली (दूसरी पीडि़ता) के बारे में पूछा और कहा कि उसे बुला कर ला, कुछ दोस्तों से मिलवाता हूं। पंकज की बातों में आकर दीपिका (14 वर्षीय लड़की का बदला हुआ नाम) ने अपनी 12 वर्षीय सहेली नीलम (परिवर्तित नाम) को उसके घर से बुलाया।  
    दीपिका और नीलम को लेकर पंकज अपने दोस्त छगन श्रीवास के घर लेकर गया। वहां पर छगन के अलावा प्रशांत, भूषण और संजय मौजूद थे। वे सभी पहले से ही ब्लू फिल्म देख रहे थे। पंकज के पहुंचने के बाद सभी ने फिल्म बंद कर दिया। उसके बाद पंकज ने दीपिका और नीलम का एक दूसरे से परिचय कराया। पंकज और उसके दोस्तों ने उनसे कहा कि घर में कोई नहीं है। पार्टी मनाएंगे। दीपिका और नीलम ने इनकार किया कि वे घर वापस नहीं गईं तो घर वाले परेशान हो जाएंगे। 
    इस बीच फिर पंकज और उसके दोस्तों ने फिर से ब्लू फिल्म शुरू कर दी। उसके बाद सभी दोस्तों ने सारी रात दोनों लड़कियों के साथ जबरदस्‍ती की। 
    लड़कियों के घर वाले सारी रात उनकी तलाश में जुटे रहे। सोमवार की सुबह उनके परिजन हुडकेश्वर थाने में उनके गायब होने की शिकायत दर्ज कराने जा रहे थे, तब बदहवास हालत में नीलम उन्हें आती दिखाई दी। उसी से दीपिका के बारे में पता चला। दीपिका छगन के घर पर अकेली पड़ी थी। घर का दरवाजा खुला था। 
    दोनों लड़कियों को लेकर उनके घर वाले थाने पहुंचे। हुडकेश्वर पुलिस ने गैंगरेप का मामला दर्ज कर सभी आरोपियों को पकड़ लिया। तफ्तीश जारी है।
    Source : http://www.bhaskar.com/article/MH-girls-got-gangraped-while-watching-blue-film-3477001.html?RHS-badi_khabare=

    3 comments:

    राजन said...

    जमाल साहब,समाज ऐसी खबरों से पहले ही डरा हुआ हैं.बेटियों पर हिफाजत के नाम पर पाबंदियाँ पहले ही बहुत ज्यादा हैं.अब कहाँ तक उनकी हिफाजत की जाए क्योंकि सबसे ज्यादा यौन शोषण के मामलों में तो घर परिवार या जान पहचान का ही कोई व्यक्ति शामिल होता है.अच्छा हो कि सीधे जडों का इलाज किया जाए.बेटों को महिलाओं का सम्मान करना सिखाया जाए और ये नहीं हो सकता तो उन पर पाबंदियाँ लगाई जाए न कि कोई गलती करने पर उनका पक्ष लिया जाए.

    DR. ANWER JAMAL said...

    @ Rajan ji ! दरिन्दे माँ बाप का कहना नहीं सुनते और मौत की सज़ा यहाँ दी नहीं जाती. लिहाज़ा अपनी बेटियों को महफूज़ कैसे रखना है ?, यह सोचना आपकी और हमारी ज़िम्मेदारी है.

    VIPIN KUMAR said...

    ये बात तो ठीक है पर कोई ऐसा रास्ता निकाला जाए जिससे महिलाओं पर पाबंदी ना लगे हो सके तो आत्मरक्षा करनी सीखनी चाहिए

    There was an error in this gadget

    Followers

    प्यारी माँ

    Related Posts Plugin for WordPress, Blogger...
    • विश्वास - ‘विश्वास’ कितना आभासी है ना यह शब्द ! कितना क्षणिक, कितना छलनामय, कितना भ्रामक ! विश्वास के जिस धागे से बाँध कर कल्पना की पतंग को आसमान की ऊँच...
    • राजीव गांधी :अब केवल यादों में - शत शत नमन - एक नमन राजीव जी को आज उनकी जयंती के अवसर पर.राजीव जी बचपन से हमारे प्रिय नेता रहे आज भी याद है कि इंदिरा जी के निधन के समय हम सभी कैसे चाह रहे थे कि ...
    • हमें अपनी झील के आकर्षण में बंधे रहना है - #हिन्दी_ब्लागिंग मैं कहीं अटक गयी हूँ, मुझे जीवन का छोर दिखायी नहीं दे रहा है। मैं उस पेड़ को निहार रही हूँ जहाँ पक्षी आ रहे हैं, बसेरा बना रहे हैं। कहाँ ...
    • शापित मंजिलें - *... स्थितियाँ * *बदल देती हैं * *राह जिंदगी की ...* *... मंजिलें* *अक्सर अकेली रह * *शापित हो जाया करती हैं !!* *सु-मन *
    • बातें हैं बातों का क्या ....... - अम्बुआ की डाली पर चाहे न कुहुके कोयल किसी अलसाई शाम से चाहे न हो गुफ्तगू कोई बेनामी ख़त चाहे किसी चौराहे पर क्यों न पढ़ लिया जाए ज़िन्दगी का कोई नया शब्दक...
    • केवल राष्ट्र के लिए था यह सृजन - देश की स्वतंत्रता के लिए 1857 से लेकर 1947 तक क्रान्तिकारियों व आंदोलनकारियों के साथ ही लेखकों, कवियों और पत्रकारों ने भी महत्वपूर्ण भूमिका निभाई। उस समय...
    • कृष्ण लीला - ग्वाल बाल साथ ले कान्हा ने धूम मचाई गोकुल की गलियों में ! खिड़की खुली थी घर में छलांग लगाई खाया नवनीत खिलाया मित्रों को भी कुछ खाया कुछ फैलाया आहट ...
    • नींद बनाम ख्व़ाब - मैंने अपनी नींदें बेच, कुछ ख्वाब खरीदे थे। रख दिया था सहेज कर, उन्हें अपनी पलकों तले। वक़्त की बारिशों औ आंधी से, कुछ उड़ गए, कुछ बह गए। कुछ को बचाया जतन...
    • - गज़ल 1 मुहब्बत से रिश्ता बनाया गया उसे टूटते रोज पाया गया मुहब्बत पे उसकी उठी अँगुलियाँ सरे बज़्म रुसवा कराया गया यहाँ झूठ बिकता बड़े भाव पर मगर सच को ठेंगा द...
    • माँ तुझे प्रणाम - *माँ तुझे प्रणाम* *शत शत नमन कोटि प्रणाम * *माँ तुझे प्रणाम ।* *जब मैं तेरी कोख में आई * *तूने स्पर्श से बताया था * *ममता का कोई मोल नहीं * *तूने ही सि...
    • जाने कहाँ गया वो दिन??? - "आज कुछ special बना दो, Sunday है... " ... अभी तो परसों कढ़ाही पनीर बनी थी... "सुनो, मैं अपने दोस्तों से मिल कर आ रहा हूँ, वो आज Sunday है न..." ... हाँ, द...
    • अधूरे हम... - एक युवक बगीचे में खिन्न मुद्रा में बैठा था । एक बुजुर्ग ने उस परेशान युवक से पूछा - क्या हुआ बेटा क्यूं इतने परेशान हो ? युव...
    • नया साल ! - समर घर से निकला तो पत्नी और बच्चों के लिए गिफ्ट पहले ही खरीदता हुआ होटल पहुंचा था। रात में प्रोग्राम ख़त्म करके सीधे घर भागेगा क्यो...
    • वेदों में गायन कला - *- डॉ. शरद सिंह* *गायन मानव की संवेदनाओं को जागृत करता है.आज दुनिया भर में संगीत के महत्व पर वैज्ञानिक शोध हो रहे हैं . पाश्चात्य जगत के व...
    • भ्रष्ट आचार - स्वतंत्र भारत की नीव में उस समय के नेताओं ने अपनी महत्त्वाकांक्षाओं के रख दिये थे भ्रष्ट आचार फिर देश से कैसे खत्म हो भ्रष्टाचार ?
    • उदास आँखों में छुपी झुर्रियों की दास्तान (भाग -9) - *(रात में बेटी के फोन की आवाज़ से जग कर वे,अपना पुराना जीवन याद करने लगती > हैं.उनकी चार बेटियों और दो बेटों से घर गुलज़ार रहता. पति गाँव के स्कूल में > ...

    मन की दुनिया

    नारी का पूर्ण सशक्तिकरण

     
    Copyright (c) 2010 प्यारी माँ. All rights reserved.