"माँ ममता और बचपन"

Posted on
  • Saturday, February 26, 2011
  • by
  • vandana gupta
  • in
  • माँ की ममता एक बच्चे के जीवन की अमूल्य धरोहर होती है । माँ की ममता वो नींव का पत्थर होती है जिस पर एक बच्चे के भविष्य की ईमारत खड़ी होती है । बच्चे की ज़िन्दगी का पहला अहसास ही माँ की ममता होती है । उसका माँ से सिर्फ़ जनम का ही नही सांसों का नाता होता है । पहली साँस वो माँ की कोख में जब लेता है तभी से उसके जीवन की डोर माँ से बंध जाती है । माँ बच्चे के जीवन के संपूर्ण वि़कास का केन्द्र बिन्दु होती है । जीजाबाई जैसी माएँ ही देश को शिवाजी जैसे सपूत देती हैं ।

    जैसे बच्चा एक अमूल्य निधि होता है वैसे ही माँ बच्चे के लिए प्यार की , सुख की वो छाँव होती है जिसके तले बच्चा ख़ुद को सुरक्षित महसूस करता है । सारे जहान के दुःख तकलीफ एक पल में काफूर हो जाते हैं जैसे ही बच्चा माँ की गोद में सिर रखता है ।माँ भगवान का बनाया वो तोहफा है जिसे बनाकर वो ख़ुद उस ममत्व को पाने के लिए स्वयं बच्चा बनकर पृथ्वी पर अवतरित होता है ।

    एक बच्चे के लिए माँ और उसकी ममता का उसके जीवन में बहुत ही महत्त्वपूर्ण स्थान होता है । मगर हर बच्चे को माँ या उसकी ममता नसीब नही हो पाती । कुछ बच्चे जिनके सिर से माँ का साया बचपन से ही उठ जाता है वो माँ की ममता के लिए ज़िन्दगी भर तरसते रहते हैं । या कभी कभी ऐसा होता है कि कुछ बच्चों के माँ बाप होते हुए भी वो उनसे अलग रहने को मजबूर हो जाते हैं या कर दिए जाते हैं । ऐसे में उन बच्चों के वि़कास पर इसका बड़ा दुष्प्रभाव पड़ता है । कुछ बच्चे माँ की माता न मिलने पर बचपन से ही कुंठाग्रस्त हो जाते हैं तो कुछ आत्मकेंद्रित या फिर कुछ अपना आक्रोश किसी न किसी रूप में दूसरों पर उतारते रहते हैं । बचपन वो नींव होता है जिस पर ज़िन्दगी की ईमारत बनती है और यदि नींव डालने के समय ही प्यार की , सुरक्षा की , अपनत्व की कमी रह जाए तो वो ज़िन्दगी भर किसी भी तरह नही भर पाती ।

    कोशिश करनी चाहिए कि हर बच्चे को माँ का वो सुरक्षित , ममत्व भरा आँचल मिले जिसकी छाँव में उसका बचपन किलकारियां मारता हुआ ,किसी साज़ पर छिडी तरंग की मानिन्द संगीतमय रस बरसाता हुआ आगे बढ़ता जाए, जहाँ उसका सर्वांगी्ण विकास हो और देश को , समाज को और आने वाली पीढियों को एक सफल व सुदृढ़ व्यक्तित्व मिले ।



    जिस मासूम को मिला न कभी
    ममता का सागर
    फिर कैसे भरेगी उसके
    जीवन की गागर
    सागर की इक बूँद से
    जीवन बन जाता मधुबन
    ममता की उस छाँव से
    बचपन बन जाता जैसे उपवन
    बचपन की बगिया का
    हर फूल खिलाना होगा
    ममता के आँचल में
    उसे छुपाना होगा
    ममत्व का अमृत रस
    बरसाना होगा
    हर बचपन को उसमें
    नहलाना होगा

    माँ के आँचल सी छाँव
    गर मिल जाए हर किसी को
    तो फिर कोई कंस न
    कोशिश करे मारने की
    किसी भी कृष्ण को
    अब तो हर कंस को
    मरना होगा और
    यशोदा सा आँचल
    हर कृष्ण का
    पलना होगा
    आओ एक ऐसी
    कोशिश करें हम

    9 comments:

    सदा said...

    माँ के आँचल सी छाँव
    गर मिल जाए हर किसी को ...

    बहुत ही सुन्‍दर भावों से सजी बेहतरीन अभिव्‍यक्ति ।

    निर्मला कपिला said...

    जीवन मे माँ से बडा
    और नही वरदान
    माँ चरणों की धूल ले
    खुश होंगे भगवान।
    सुन्दर रचना के लिये बधाई।

    DR. ANWER JAMAL said...

    घेर ले चारों तरफ़ से जब मसाएब का हुजूम
    याद आता है ख़ुदा , या याद बस आती है माँ

    POOJA... said...

    waah... behad sundar bhaav...

    दर्शन कौर धनोए said...

    बेहद सुन्दर प्रस्तुति हे और उससे भी सुन्दर आपकी भावनाए --मन भावन !

    आशीष/ ਆਸ਼ੀਸ਼ / ASHISH said...
    This comment has been removed by the author.
    आशीष/ ਆਸ਼ੀਸ਼ / ASHISH said...

    माँ के लिए, जितना कहा जाए.... कम है.
    अपनी मा से दूर एक वंदन मेरा भी....

    मेरा जीवन मेरी साँसे,
    ये तेरा एक उपकार है माँ!
    तेरे अरमानों की पलकों में,
    मेरा हर सपना साकार है माँ!
    तेरी छाया मेरा सरमाया,
    तेरे बिन ये जग अस्वीकार है माँ!
    मैं छू लूं बुलंदी को चाहे,
    तू ही तो मेरा आधार है माँ!
    तेरा बिम्ब है मेरी सीरत में,
    तूने ही दिए विचार हैं माँ!
    तू ही है भगवान मेरा,
    तुझसे ही ये संसार है माँ!
    सूरज को दिखाता दीपक हूँ,
    फिर भी तेरा आभार है माँ!


    आशीष
    ---
    लम्हा!!!

    Minakshi Pant said...

    बुलंदी कब किस शख्श के हिस्से में रहती है |
    ईमारत जितनी ऊँची हो खतरे में रहती है |
    ये कैसा क़र्ज़ है में जिसको अदा कर नहीं सकती |
    जब तक घर न पहुंचूं माँ मेरी सजदे में रहती है |

    माँ के बारे जितना कहो उतना कम है
    बहुत खुबसूरत रचना |

    yatharth raksha said...

    बहुत ही सुंदर !!!

    There was an error in this gadget

    Followers

    प्यारी माँ

    Related Posts Plugin for WordPress, Blogger...
    • क्षणिकाएं - १-खेतों में आई बहार पौधों ने किया नव श्रंगार रंगों की देखी विविधता उसने मन मेरा जीता | २-रंगों का सम्मलेन मोहित करता मेरा मन या को...
    • सेना का तमाशा बनाया बाबू मोशा ने - आज के समाचार पत्रों में एक समाचार के शीर्षक ने सर शर्म से झुका दिया ,शीर्षक था -''शहीद का कोई धर्म नहीं होता ,''शीर्षक सही था और लेफ्टिनेंट जनरल देवराज...
    • खलल - *न नींद न ख्वाब* *न आँसू न उल्लास,* *वर्षों से उसके नैन कटोरे * *यूँ ही सूने पड़े हैं !* *न शिकवा न मुस्कान* *न गीत न संवाद,* *सालों से उसके शुष्क अधरों क...
    • कुछ नहीं होने का सुख - जिन्दगी भर लगे रहे कि कुछ बन जाए, अपना भी नाम हो, सम्मान हो। लेकिन अब पूरी शिद्दत से मन कर रहा है कि हम कुछ नहीं है का सुख भोगें। जितने पंख हमने अपने शरीर ...
    • कैसे तुझको प्यार करूँ - विवशता देखो इस पागल मन की कहता दूर नहीं हरदम तेरे करीब रहूँ समझ न आता राज प्यार का कैसे तुझको प्यार करूँ देख तेरी प्यार भरी निगाहें दिल तुझमें डूबने लगता इ...
    • History fills the gap between origin of human and being human. - Dr Sharad Singh - *History Quotation of Dr (Miss) Sharad Singh**इतिहास मानव की उत्पत्ति और मानव होने के बीच की खाई को भर देता है - डॉ. शरद सिंह* *A piece of Sculpture in Thr...
    • बिजूका पर मेरी कवितायेँ - आपका लिखा कभी जाया नहीं होता इसका उदाहरण है ये कि हिंदी समय पर मेरी कवितायें शामिल हैं. वहाँ प्रोफ़ेसर संजीव जैन जी ने पढ़ीं और बिजूका समूह जो व्हाट्स एप पर ...
    • तुम और मैं -९ - *मैंने दीया जला कर * *कर दी है रोशनी ...* *तुम प्रदीप्त बन * *हर लो, मेरा सारा अविश्वास |* *मेरे आराध्य !* *आस के दीये में * *बची रहे नमी सु...
    • चिता की राख ! - रात में अचानक जोर जोर से आवाज आने से उ...
    • - * गज़ल * बेवफाई के नाम लिखती हूँ आशिकी पर कलाम लिखती हूँ खत में जब अपना नाम लिखती हूँ मैं हूँ उसकी जिमाम लिखती हूँ आँखों का रंग लाल देखूँ तो उस नज़र को मैं...
    • नींद बनाम ख्व़ाब - मैंने अपनी नींदें बेच, कुछ ख्वाब खरीदे थे। रख दिया था सहेज कर, उन्हें अपनी पलकों तले। वक़्त की बारिशों औ आंधी से, कुछ उड़ गए, कुछ बह गए। कुछ को बचाया जतन...
    • माँ तुझे प्रणाम - *माँ तुझे प्रणाम* *शत शत नमन कोटि प्रणाम * *माँ तुझे प्रणाम ।* *जब मैं तेरी कोख में आई * *तूने स्पर्श से बताया था * *ममता का कोई मोल नहीं * *तूने ही सि...
    • जाने कहाँ गया वो दिन??? - "आज कुछ special बना दो, Sunday है... " ... अभी तो परसों कढ़ाही पनीर बनी थी... "सुनो, मैं अपने दोस्तों से मिल कर आ रहा हूँ, वो आज Sunday है न..." ... हाँ, द...
    • अधूरे हम... - एक युवक बगीचे में खिन्न मुद्रा में बैठा था । एक बुजुर्ग ने उस परेशान युवक से पूछा - क्या हुआ बेटा क्यूं इतने परेशान हो ? युव...
    • भ्रष्ट आचार - स्वतंत्र भारत की नीव में उस समय के नेताओं ने अपनी महत्त्वाकांक्षाओं के रख दिये थे भ्रष्ट आचार फिर देश से कैसे खत्म हो भ्रष्टाचार ?
    • उदास आँखों में छुपी झुर्रियों की दास्तान (भाग -4) - *(रात में बेटी के फोन की आवाज़ से वे जग जाती हैं,और पुराना जीवन याद करने लगती हैं.उनकी चार बेटियों और दो बेटों से घर गुलज़ार रहता. पति गाँव के स्कूल में श...

    मन की दुनिया

    नारी का पूर्ण सशक्तिकरण

     
    Copyright (c) 2010 प्यारी माँ. All rights reserved.